Sanjana Kirodiwal

Story With Sanjana
Telegram Group Join Now

हाँ ये मोहब्बत है – 25

Haan Ye Mohabbat Hai – 25

Haan Ye Mohabbat Hai
Haan Ye Mohabbat Hai

अक्षत की जगह रघु को देखकर निहारिका का मूड ऑफ हो चुका था , लेकिन अक्षत के घर जाने का मौका वह किसी भी हाल में छोड़ना नहीं चाहती थी। राधा ने नीता से कहकर अच्छा खाना बनवाया और साथ ही मार्किट से कुछ मीठे में भी मंगवा लिया। राधा को आवभगत का बहुत शौक था इसलिए उसने निहारिका को भी पहली बार में ही खाने पर बुला लिया। घर में सभी महिलाये थी , अक्षत था और दादू थे। काव्या भी स्कूल से आकर अपना होमवर्क करने में बिजी थी। रघु निहारिका को लेकर घर पहुंचा गाड़ी गेट से अंदर चली आयी। निहारिका गाड़ी से नीचे उतरी उसने देखा अक्षत का घर उसके घर से बहुत छोटा था , लेकिन यहाँ निहारिका घर देखने नहीं बल्कि अक्षत से मिलने आयी थी। रघु निहारिका को लेकर घर के दरवाजे पर आया। राधा वही खड़ी थी निहारिका को देखते ही कहा,”आओ बेटा अंदर आओ”
राधा निहारिका को लेकर अंदर आयी उसे दादू दादी , तनु और नीता से मिलवाया। निहारिका की नजरे तो बस अक्षत को ढूंढ रही थी जो की वहा था नहीं। राधा ने निहारिका को बैठने को कहा। निहारिका सोफे पर आ बैठी और घर देखने लगी , हालाँकि वह घर उसके घर जितना बड़ा और आलिशान नहीं था लेकिन अच्छा था , एक सुकून था इस घर में। नीता उसके लिए जूस ले आयी निहारिका ने वो पीया।
“इंदौर तुम सिर्फ घूमने आयी हो ?”,दादू ने सवाल किया
“हां अंकल , वैसे मैं पेरिस जा रही थी लेकिन फिर इस सिटी के बारे में पढ़ा एंड आई लव इट”,निहारिका ने खुश होकर कहा
सभी बैठकर कुछ देर बाते करते रहे घडी में 2 बजे देखकर राधा ने कहा,”खाने का समय हो गया है चलिए चलकर खाना खा लीजिये”
सभी उठकर डायनिंग टेबल की और चले आये चलते चलते निहारिका ने कहा,”आंटी वो आपके आशु,,,,,,,,,,,,,आई मीन अक्षत नजर नहीं आ रहा है”
राधा ने निहारिका की बात सुनकर जैसे ही सीढ़ियों की और देखा अक्षत कान से फोन लगाए नीचे चला आ रहा था। अक्षत जैसे ही नीचे आया राधा ने उसे आवाज लगाई,”आशु”
“मैं तुम्हे बाद में फोन करता हूँ”,कहकर अक्षत ने फोन काट दिया और राधा के पास चला आया। अक्षत को अपने सामने देखकर निहारिका ने उसकी और हाथ बढ़ाते हुए कहा,”हाय !!”
अक्षत ने देखा सब वही है तो उसने निहारिका से हाथ मिलाते हुए कहा,”हाय”
अक्षत की छुअन से निहारिका के मन के तार झन झना उठे। वह अक्षत का हाथ थामे एकटक उसे देखते रही। अक्षत ने खाँसने का नाटक किया तो निहारिका ने उसका हाथ छोड़ दिया। राधा निहारिका को लेकर डायनिंग टेबल पर आयी और बैठने को कहा। अक्षत को निहारिका का घर आना बिल्कुल अच्छा नहीं लगा लेकिन घर आये मेहमान को वह कुछ कह भी नहीं सकता था इसलिए चुपचाप आकर खाना खाने बैठ गया। मीरा ऊपर अपने कमरे में थी उसे दवा लेनी थी इसलिए राधा ने उसे निहारिका के आने से पहले ही खाना खिला दिया था और वह अपने कमरे में आराम कर रही थी।
राधा और बाकि सब लोगो के साथ बैठकर खाने में निहारिका को बहुत ख़ुशी हो रही थी। उसके पास किसी चीज की कमी नहीं थी पर ऐसे परिवार के साथ बैठकर खाना उसे नसीब नहीं हुआ। अक्षत के घरवालों से मिलकर निहारिका को बहुत ख़ुशी हुई। खाना खाने के बाद राधा उसे अपना घर दिखाने लगी , निहारिका की नजरे अक्षत पर चली जाती जो की हॉल के सोफे पर बैठा चीकू के साथ मस्ती कर रहा था। चलते चलते निहारिका मन ही मन कहने लगी,”कितनी अच्छी फॅमिली है अगर हमेशा के लिए इस घर में रह जाऊ तो कितना अच्छा होगा , डेड तो वैसे ही इस फॅमिली से इम्प्रेस्ड और मैं भी,,,,,,,,,,,,,,,,!! चलते चलते निहारिका लड़खड़ाई तो राधा ने कहा,”अरे ध्यान से बेटा”
निहारिका ने खुद को सम्हला और राधा के साथ आगे बढ़ गयी। कुछ देर बाद मीरा नीचे चली आयी , निहारिका की नजर उस पर पड़ी तो उसे मीरा की खूबसूरती से थोडी जलन हुई , हालाँकि निहारिका भी अपने आप में बहुत खूबसूरत थी लेकिन मीरा सादगी में भी प्यारी लग रही थी। उसे देखकर निहारिका ने पूछा,”ये कौन है आंटी ?”
राधा ने देखा तो उनके चेहरे पर मुस्कराहट आ गयी और उसने कहा,”आओ तुम्हे मिलवाती हूँ”
निहारिका को लेकर राधा मीरा के सामने आयी और कहा,”मीरा ये है निहारिका जो सिन्हा जी आये थे ना दिल्ली से उनकी बेटी , यहाँ घूमने आयी है”
“नमस्ते”,मीरा ने हाथ जोड़कर बड़े ही प्यार से कहा
“हाय”,निहारिका ने बेमन से कहा , मीरा का खूबसूरत होना उसे खटक रहा था
“और ये मीरा है,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,!!”,राधा ने इतना ही कहा की अक्षत ने मीरा की बगल में आकर कहा,”मेरी वाइफ , मिसेज अक्षत व्यास”
निहारिका ने जैसे ही सूना उसका दिल टूट गया। जिस अक्षत को लेकर वह सपने बुन रही थी वह अक्षत शादीशुदा है जानकर उसे बहुत दुःख हुआ। निहारिका उसके बाद कुछ बोल ही नहीं पाई। राधा निहारिका को लेकर चली गयी। जाते जाते निहारिका ने अक्षत को देखा जो की बड़े प्यार से मीरा के गाल पर लगी किसी चीज को अपनी उंगलियों से हटा रहा था। निहारिका ने गर्दन घुमा ली और घर से बाहर चली आयी। राधा ने उसे पूरा घर दिखाया। निहारिका को अब वहा घुटन महसूस होने लगी थी उसने राधा से कहा,”आंटी आई थिंक अब मुझे चलना चाहिए”
“हम्म्म्म ठीक है बेटा मैं आशू से कह देती हूँ वो तुम्हे होटल तक छोड़ देगा”,राधा ने कहा
निहारिका ने हामी में सर हिला दिया। राधा ने कुछ तोहफे उसे दिए और फिर सब उसे छोड़ने दरवाजे तक आये। अक्षत इस बार राधा को मना नहीं कर पाया और आकर ड्राइवर सीट पर बैठ गया। निहारिका उसकी बगल में आ बैठी और अक्षत वहा से चला गया। अक्षत चुपचाप गाड़ी चलाये जा रहा था। निहारिका उसे ही देख रही थी और जब नहीं रहा गया तो उसने गुस्से से कहा,”तुम्हे क्या लगता है मैं यहाँ घूमने आयी हूँ ?”
“तुम यहाँ मेरे लिए आयी हो”,अक्षत ने सामने देखते हुए कहा तो एक पल को निहारिका हैरान रह गयी और कहा,”आर यू माइंड रीडर ? तुम्हे कैसे पता मैं यहाँ तुम्हारे लिए आयी हूँ”
“इंसान की आँखों से पता चलता है उसके मन में क्या है ?”,अक्षत ने इस बार भी बिना निहारिका की और देखे कहा
“अमेजिंग,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,तुमने मुझे बताया क्यों नहीं तुम मैरिड हो ?”,निहारिका ने अगला सवाल किया
“मैं अपनी पर्सनल लाइफ हर किसी के साथ शेयर नहीं करता”,अक्षत ने सधे हुए स्वर में कहा
“हम्म्म सो डू यू बिलीव इन एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर ?”,निहारिका ने पूछा
निहारिका के इस सवाल पर अक्षत ने अचानक से कार को ब्रेक लगाया और उसकी और देखकर कहा,”व्हाट डू यू मीन ?”
“आई मीन शादी के बाद भी तुम किसी के साथ रिलेशनशिप में रह सकते हो , तुम हेंडसम हो जवान हो अ परफेक्ट गाय फॉर गर्ल्स लाइक मी”,निहारिका ने बेशर्मी से कहा
अक्षत ने जैसे ही सूना उसका खून खौल गया और उसने कहा,”तुम तो क्या इस दुनिया की कोई भी लड़की मीरा जैसी नहीं बन सकती”
“वो मेरे सामने कुछ भी नहीं है”,निहारिका ने घमंड के साथ कहा लेकिन अक्षत को मीरा के बारे में एक शब्द भी सुनना गवारा नहीं था उसने कहा,”मीरा के बारे में मैं एक शब्द नहीं सुनूंगा , मुझे लगा था तुम एक इगोस्टिक लड़की हो पर नहीं तुम बहुत ही ज्यादा बद्तमीज और घमंडी भी हो”
“तुम शायद जानते नहीं मैं कौन हु ?”,इस बार निहारिका ने तेश में आकर कहा
अक्षत ने ये सूना तो कहने लगा,”निहारिका सिन्हा , चंद्रशेखर सिन्हा और माधुरी सिन्हा की इकलौती बेटी , उम्र 24 साल , दिल्ली यूनिवर्सिटी में कॉमर्स फाइनल ईयर में है , दो बेस्ट फ्रेंड है जिया और सोनम लड़को में बेस्ट फ्रेंड है मोनिश , अब तक तुम्हारे 3 बॉयफ्रेंड रह चुके है अखिल , पारस और सुमित ,, 4 महीने पहले ही तुम्हारा ब्रेकअप हुआ है और ब्रेकअप की वजह थी तुमने एक पार्टी में अपने बॉयफ्रेडं के फादर को थप्पड़ मार दिया था। तुम्हारे डेड के बाद तुम्हे सिर्फ अपने मामा पर भरोसा है , तुम्हारे अकाउंट में इस वक्त 500-700 करोड़ की प्रॉपर्टी होगी , तुम्हे अपने फोन नंबर बदलने का बहुत शौक है , हफ्ते में 4 दिन तुम पार्टी करना पसंद करती हो , तुम्हे ऐसा लड़का चाहिए जो शादी के बाद तुम्हारे पीछे कुत्ता बनकर घूमे”
अक्षत ने जो कहा वो सुनकर निहारिका का मुंह खुला का खुला रह गया ये सब बाते तो उसके दोस्त भी नहीं जानते थे। अक्षत ने गाड़ी स्टार्ट की और कहा,”खुद को स्मार्ट और अपने सामने वाले को बेवकूफ समझना हम इंसानो की सबसे बड़ी गलती होती है”
“एक्चुअली मैं,,,,,,,,,,,,,,,,!!”,निहारिका ने जैसे ही कहना चाहा अक्षत ने गुस्से और नफरत भरे भावो से उसे देखा और कहा,”जस्ट शट योर माउथ”
अक्षत का गुस्सा देखकर निहारिका खामोश हो गयी। उसने अक्षत से जिस तरह से बात की उस बारे में सोचकर उसे बहुत बुरा लग रहा था। अक्षत उन लड़को जैसा नहीं था जो निहारिका के एक इशारे पर उसके पीछे चले आते थे। उसे बहुत पछतावा हो रहा था लेकिन अक्षत के सामने अब कुछ बोलने की उस की बिल्कुल हिम्मत नहीं हो रही थी।
गाड़ी होटल के सामने आकर रुकी। निहारिका ने जैसे ही कुछ कहना चाहा अक्षत ने हाथ आगे करके उसे रोक दिया और जाने का इशारा किया
उदास मन से निहारिका गाड़ी से उतरी , अक्षत गाड़ी लेकर वहा से चला गया। निहारिका की बातो से उसका अच्छा खासा मूड ख़राब हो चुका था। वह तेज रफ्तार में गाड़ी चला रहा था , की अचानक से उसे ब्रेक लगाने पड़े और वह अपने से आगे चल रही गाड़ी से टकराते टकराते बचा। अक्षत ने गाड़ी साइड में लगाई। गाड़ी से उतरा और पूल से के डिवाइडर के पास आकर खड़ा हो गया और कहने लगा,”क्या हो गया है तुझे ? इतना गुस्सा क्यों हो रहा है ? वो लड़की कुछ भी बकवास करेगी तो क्या तू अपना टेम्पर खो देगा ? याद है ना मीरा ने क्या कहा था ‘गुस्सा नहीं होना है’ तुझसे अब मीरा की जिंदगी भी जुडी है,,,,,,,,,,,,कूल डाउन और भूल जा उन सब बातो को , तुम्हारा और मीरा के रिश्ते के बीच कोई नहीं आ सकता”
अक्षत ने एक गहरी साँस ली और वापस आकर गाड़ी में बैठ गया। उसने गाड़ी स्टार्ट की और आगे बढ़ा दी। अक्षत ने घर जाने से पहले अपना मूड ठीक किया और फिर घर चला आया।
जैसा की तय था निहारिका इंदौर अक्षत के लिए आयी थी पर जब उसे अक्षत की शादी के बारे में पता चला तो उसका दिल टूट गया। अक्षत से उसकी अच्छी बॉन्डिंग भी नहीं बन पाई उलटा उसकी बकवास बातो की वजह से अक्षत उस से नाराज हो गया। होटल रूम में आकर निहारिका ने अपने कपडे पैक किये और सिन्हा जी के पी.ए. से कहकर उसी रात की दिल्ली की टिकट्स बुक करवाने को कहा। निहारिका अब यहाँ रुकना नहीं चाहती थी। अक्षत का चेहरा बार बार उसकी आँखों के सामने आ रहा था , अक्षत के कहे शब्द उसके कानो में गूंज रहे थे। अपना सर पकडे वह बिस्तर पर आ बैठी।
अक्षत घर आया देखा मीरा अपने सामान के साथ तैयार खड़ी थी। अक्षत ने देखा तो उसका दिल बैठने लगा , कुछ देर बाद मीरा चली जाएगी सोचकर उसे अच्छा है लग रहा था। अक्षत अंदर आया तो मीरा ने उसे बैठने का इशारा किया और फिर उसके लिए चाय बनाकर ले आयी। जब मीरा ने अक्षत को चाय दी तो अक्षत उसकी और देखने लगा। शादी के बाद पिछले दो महीनो से मीरा उसके साथ थी , अक्षत ने ख़ामोशी से चाय का कप लिया और पीने लगा। चाय पीकर अक्षत ने कहा,”चले ?”
“हम्म्म !”,मीरा ने कहा उसके चेहरे की ख़ुशी बता रही थी की वह अपने घर जाने की बात से कितना खुश थी। राधा और दादी ने तो मीरा को दुनियाभर की नसीहते दे डाली और मीरा सर हिलाते हुए सुनती रही। अक्षत ने उसका सामान गाड़ी में रखा और फिर मीरा को साथ लेकर निकल गया। अक्षत को खामोश देखकर मीरा ने कहा,”आप ठीक है ?”
अक्षत ने कुछ नहीं कहा बस मीरा का हाथ अपने हाथ में थामकर उसे अपने सीने के बांयी तरफ लगा लिया। अक्षत की तेज धड़कनो को मीरा महसूस कर रही थी और समझ गयी की अक्षत को उसका खुद से दूर जाना अच्छा नहीं लग रहा था

Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25 Haan Ye Mohabbat Hai – 25

क्रमश – हाँ ये मोहब्बत है – 26

Read More – हाँ ये मोहब्बत है – 24

Follow Me On – facebook | instagram | youtube

Buy This Book Here – archanapublication

संजना किरोड़ीवाल

Haan Ye Mohabbat Hai
Haan Ye Mohabbat Hai

14 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!