Love You जिंदगी – 12

Love You Zindagi - 12
love-you-zindagi-12

Love You Zindagi – 12

रुचिका सचिन के साथ बाइक से घर जा रही रही थी ! रात का वक्त उस पर ठंडी हवाएं रुचिका को बहुत भा रही थी उसने अपना सर सचिन की पीठ पर टिका लिया और आँखे मूंद उस पल को महसूस करने लगी ! सचिन भी ख़ामोशी से बाइक चलाता रहा ! कुछ देर बाद ही दोनों अपार्टमेंट के बाहर वाली रोड पर पहुंचे ! रुचिका ने हाथ पर बंधी घडी में देखा जिसमे 9:00 बज रहे थे ! वह बाइक से उतरी और कहा,”थैंक्यू बेबी !”
“हम्म्म गुड़ नाईट !”,सचिन ने कहा जबकि बाइक को वो चाबी घुमाकर बंद कर चुका था और लगातार रुचिका की और देखे जा रहा था ! रुचिका ने भी मुस्कुरा के गुड़ नाईट कहा और जाने लगी ! चलते चलते उसने मुड़कर देखा सचिन अभी भी वही खड़ा उसे देख रहा था , रुचिका वापस आयी और उसके करीब आकर उसके होंठो को छूकर कहा,”आई लव यू !”
सचिन ने सूना तो उसके चेहरे को अपने हाथो में लिया और जैसे ही किस करने वाला था सामने खड़े वॉचमेन पर उसकी नजर चली गयी और सचिन बाइक स्टार्ट कर वहा से चला गया ! रुचिका की धड़कने सामान्य से तेज थी जब उसने वाचमैन को वहा देखा तो मन ही मन उसे कोसते हुए अंदर चली गयी ! लिफ्ट के सामने आयी तो लिफ्ट बंद मिली लेकिन आज रुचिका को इस बात पर खीज नहीं हुई वह मुस्कुराते हुए सीढ़ियों की और बढ़ गयी ! आज पहली बार उसने किसी लड़के को किस किया था और ये अहसास उसे बार बार गुदगुदा रहा था ! फ्लेट के सामने आकर उसने बेल बजायी दरवाजा शीतल ने खोला ! रुचिका मुस्कुराते हुए अंदर आयी सोफे पर बैठी नैना ने जब उसे देखा तो पूछ लिया,”क्या बात है पांडा तेरे चेहरे से आज स्माइल नहीं जा रही है ?”
रुचिका आकर उसकी बगल में बैठी और कहा,”आई ऍम इन लव नैना (मैं प्यार में हु नैना)”
“वो तो मुझे भी पता है , लेकिन ये चेहरे पर इतनी स्माइल !”,नैना ने कहा
”मत पूछ यार ये वो अहसास है जो भुलाये नहीं भूल रहा ! “,रुचिका ने कहा
शीतल किचन एरिया में खड़े होकर खाना बनाने में व्यस्त थी साथ ही साथ उसकी राज से भी बाते हो रही थी जिसमे बाते कम और नसीहते ज्यादा थी ! नैना ने रुचिका की बात सुनी तो कहा,”अबे तेरी ! कोई कांड तो नहीं करके आयी तू ?”
“छे ! क्या तुम भी ? सचिन आया था मुझे छोड़ने और,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,!!”,रुचिका कहते कहते रुक गयी और शर्माने लगी ! ये देखकर नैना ने कहा,”ये पोज देना बंद कर और बता क्या हुआ ?”
“मैंने उसे किस किया !”,रुचिका ने शरमाते हुए कहा
“हैं ?”,नैना का रिएक्शन कुछ अजीब था
“क्या हैं ? मैने किस किया उसे और क्या ? मैं क्या करू यार उस वक्त वो इतना क्यूट लग रहा था और इतने प्यार से मुझे देख रहा था की मैंने उसे किस कर दिया !”,रुचिका ने कहा
“वाह बेटा , अभी एक हफ्ता नहीं हुआ रिलेशनशिप में आये हुए और यहाँ लिप लॉक किये जा रहे है ! सब्र करो थोड़ा !”,नैना ने कहा
“हुंह्ह तुम्हे क्या पता ये सब ? तुम किसी से प्यार करोगी ना तब समझ आएगा , प्यार क्या होता है ? फीलिंग्स क्या होती है ? किस क्या होता है ?”,रुचिका ने कहा और उठकर शीतल के पास चली गयी ! नैना कहा रुकने वाली थी वह भी उसके पीछे पीछे आयी और कहा,”माथा ख़राब नहीं है मेरा ,, और ये कैसा रिलेशनशिप है जिसमे इतनी जल्दी जल्दी ये सब हो रहा है ?”
“नैना तुम तो रहने ही दो , सचिन बहुत अच्छा लड़का है !”,रुचिका ने कहा
“शुरुआत में सब अच्छा लगता है , और तुम्हारा ये सचिन मुझे तो नहीं ठीक लग रहा !”,नैना ने कहा
“ओह्ह्ह प्लीज तुम उसके बारे में कुछ नहीं जानती इसलिए कुछ भी मत बोलो सब जानते है तुम्हे लड़को से प्रॉब्लम है , इसका मतलब ये नहीं है की हर लड़का गलत होता है !”,रुचिका ने थोड़ा अपसेट होकर कहा
“नैना रूचि बंद करो ये बहस ! चलो खाना तैयार है !”,शीतल ने कहा !
शीतल की बात सुनकर रुचिका खामोश हो गयी ! नैना को महसूस हुआ की उसे सचिन के बारे में ऐसा नहीं बोलना चाहिए था वह रुचिका के पास आई और कंधे पर हाथ रखकर हग करते हुए कहा,”हाये मेरे पांडे आजा खाना खाते है , किस से पेट थोड़ी भरता है !”
नैना की नौटंकी देखकर रुचिका मुस्कुरा दी और कहा,”तुम कभी नहीं सुधरोगी नैना !”
“कोई सुधारने वाला भी तो होना चाहिए ना , अब चलो खाना ठंडा हो रहा है !”,नैना ने कहा ! तीनो ने खाना खाया , बर्तन नैना ने धोये और किचन साफ रुचिका ने किया और फिर तीनो बालकनी में चली आयी ! मौसम अच्छा था साथ ही ठंडी रही थी तीनो खुश थी कुछ देर बाद रुचिका ने कहा,”रिलेशनशिप में आने के बाद लाइफ कितनी खूबसूरत हो जाती है ना , हर वक्त कोई आपके दिमाग में रहता है एक खूबसूरत फीलिंग के साथ ,, मूड अच्छा रहता है , खराब चीजे भी अच्छी लगने लगती है !”
“हां ये तुमने सही कहा रुचि जब हम प्यार में होते है तो कुछ समझ नहीं आता , सब सही लगता है , सब अच्छा लगता है !”,शीतल ने कहा
“शुरू हो गया इनका प्रेम ज्ञान”,नैना मन ही मन बुदबुदाई और दूसरी और नजर घुमा ली तो उसकी नजर निचे सामने चबूतरे पर बैठे सार्थक पर गयी जो की एकटक शीतल को देखे जा रहा था ! नैना ने शीतल की और देखकर कहा,”अच्छा एक बात बताओ तुम्हारी नजर में प्यार क्या है ?”
“प्यार एक अहसास है , जिसे देखा नहीं जा सकता सिर्फ महसूस किया जा सकता है !”,शीतल ने खोये हुए स्वर में कहा
“जैसे तुम्हे है उस राज से और किसी को है तुमसे ,,,, आई मीन उसे भी है तुमसे !”,नैना ने एक नजर सार्थक पर डालते हुए कहा
“हां वो मुझसे बहुत प्यार करता है !”,शीतल ने कहा
“नैना हम दोनों रिलेशनशिप में है तुम भी अपने लिए कोई लड़का ढूंढ लो ना ! शायद तुम्हारी ये सोच भी बदल जाये ! प्यार सब कुछ बदल देता है !”,रुचिका ने कहा
नैना मुस्कुराई और कहा,”तुम्हे लगता है इस नैना बजाज को कोई झेल पायेगा !”
“बिल्कुल झेल पायेगा तुम थोड़ा अप्रोच तो करो , तुम पहली मीटिंग में लड़के की इंसल्ट कर देती हो कैसे प्यार करेगा बेचारा ?”,रुचिका ने कहा
“हम्म्म्म ये तो है , लेकिन मुझे फेक चीजे नहीं पसंद जो बोलना है मुंह पर बोलो”,नैना ने कहा
“अगर ऐसा होने लगे ना तो आधे से ज्यादा मिंगल सिंगल हो जायेंगे ! रिश्ते को बचाने के लिए बहुत से सैक्रिफाइस करने पड़ते है !”,शीतल ने कहा
“देट्स द ब्लडी पॉइंट , किसी रिश्ते में सैक्रिफाइस क्यों करना ? जब दो लोग एक दूसरे के प्यार में है तो फिर एक दूसरे से सच बोलने में कैसी शर्म ? कैसा डर ? , जहा झूठ बोलना पड़े , बाते छुपानी पड़े वहा प्यार नहीं होता है , बस होते है सैक्रिफाइस जो तुम दोनों कर रही हो !”,नैना ने कहा तो दोनों एकदम से खामोश हो गयी ! रुचिका ने कहा,”मैंने क्या सैक्रिफाइस किया ?”
नैना मुस्कुराई और कहा,”एक लड़का तुमसे ये कहता है की वो तुमसे प्यार करता है , लेकिन अपने आस पास वो दिखाना नहीं चाहता की वो तुम्हारे साथ रिलेशन में है ! सचिन ने तुम्हे मना किया न ऑफिस में अपने बारे में बताने से ?”
“तुम्हे कैसे पता ?”,रुचिका ने हैरानी से कहा
“अंधी नहीं हु मैं सब दिखता है मुझे !”,नैना ने थोड़ा नाराजगी से कहा
“वो तो बस इसलिए की वो अभी इस बारे में नहीं बताना चाहता था , सचिन अच्छा लड़का है सच में !”,रुचिका ने थोड़ा झिझकते हुए कहा
“देखो रूचि मैं तुम्हारे या उसके प्यार पर शक नहीं कर रही बस अभी जो शीतल ने शब्द कहा “सैक्रिफाइस” उसकी बात कर रही हु ! खैर छोडो ये सब !”,नैना ने कहा जिसका मूड थोड़ा ऑफ हो चुका था इन बातो से वह किचन की और जाने लगी तो रुचिका ने कहा,”तुम फिर से चाय पिने जा रही हो ? नैना इतनी चाय मत पीया करो !”
नैना रुकी और कहा,”तुम सचिन से कितना प्यार करती हो ?”
“इतना की वर्ड्स में नहीं बता पाऊँगी”,रुचिका ने कहा
“उस से 10 गुना ज्यादा मोहब्बत मुझे चाय से है !”,नैना ने कहा
“लेकिन चाय से बहुत नुकसान होते है यार !”,रुचिका ने कहा
“अरे वो मोहब्बत ही क्या जो आपको नुकसान ना पहुंचाए ?”,नैना ने शायराना अंदाज में कहा तो रुचिका मुस्कुरा उठी और कहा,”तुम सच में पागल हो , रुको मैं भी आती हु !”
रुचिका और नैना किचन की और चली गयी शीतल बालकनी में खड़ी आसमान को देखते हुए अपनी बीती जिंदगी के बारे में सोचने लगी ! नैना का कहा गया वो शब्द “सैक्रिफाइस” बार बार उसके कानो में गूंज रहा था , सैक्रिफाइस ही तो करती आयी है वो अब तक राज और अपने रिश्ते में ,, उसने हमेशा खुद से पहले राज की ख़ुशी देखी उसके हर फैसले को माना और इसी को वो हमेशा प्यार समझती आयी थी पर जबसे नैना से मिली है उसे प्यार का एक नया रूप देखने को मिल रहा था ! शीतल अपनी सोच में डूबी थी और निचे बैठा सार्थक बस उसे देखे जा रहा था , अहसास के कुछ अंकुर सार्थक के मन में भी फुट चुके थे बस जरूरत थी उन्हे पनपने की ! शीतल की नजर जब सार्थक पर पड़ी तो सार्थक को इतनी रात में निचे देखकर थोड़ी हैरान हुई और फिर मुस्कुरा दी ! सार्थक बस यही मुस्कान देखने के लिए यहाँ बैठा था , जैसे ही शीतल मुस्कुराई उसकी धड़कनो ने हलचल मचा दी ! सार्थक ने थोड़ा सा हाथ उठाया और शीतल की और हिला दिया ! बदले में शीतल ने भी हाथ हिलाया और दूसरी और नजर घुमा ली ! सार्थक वहा से चला गया तब तक नैना और रुचिका चाय के कप लेकर वहा चली आयी , रुचिका अपने लिए कॉफी लायी थी उसने चाय वाला कप शीतल को दे दिया तीनो बालकनी की रेलिंग से लगकर चाय और कॉफी की चुस्किया लेने लगी ! कॉफी पीते हुए रुचिका ने कहा,”अच्छा नैना आ जाओ ना रिलेशनशिप में , प्लीज मुझे देख्नना है तुम्हारी लव स्टोरी कैसी होगी ?”
“एकदम से बर्बाद !”,नैना ने कहा
“ऐसा कुछ नहीं होगा तुम्हे पता है मैंने पढ़ा था की जो लड़किया रुड होती है , वो प्यार के मामले में बहुत इमोशनल होती है !”,शीतल ने कहा
“कौन लिखता है ये सब ? ऐसा कुछ भी नहीं है मैं बचपन से ऐसी ही हु इकलौती !”,नैना ने कहा
“अच्छा ठीक है लेकिन हमारे लिए प्लीज कोशिश तो करो क्या पता तुम्हे तुम्हारा स्पेशल वन मिल जाये !”,रुचिका ने कहा
“नो !”,नैना ने कहा
“प्लीज प्लीज प्लीज , पसंन्द ना आये तो बोल देना !”,रुचिका उसके पीछे ही पड़ गयी तो नैना ने पीछा छुड़ाने के लिए कहा,”अच्छा ठीक है देखो तुम कोई मेरे लिए अपने हिसाब से !”
“बिल्कुल तुम्हारे लिए तो लाइन लग जाएगी लेकिन तुम्हे हमारी बाते माननी होगी , तुम वही करोगी जो हम लोग कहेंगे !”,रुचिका ने कहा
“ये ज्यादा हो रहा है हां !”,नैना ने चाय खत्म करते हुए कहा!
“प्लीज नैना , कोशिश तो करो यार ! आई विश तुम्हे तुम्हारा स्पेशल वन जल्दी से मिल जाये !”,शीतल ने कहा
“ओके फाइन , अभी मैं जा रही हु सोने !”,नैना ने घडी देखते हुए कहा जिसमे 11 बज रहे थे !
“इतनी जल्दी ?”,रुचिका ने कहा
“नींद इम्पोर्टेन्ट है बाबू ! गुड़ नाईट !”,कहकर नैना चली गयी !
उसके जाते ही रुचिका ने सचिन को फोन लगाया और शीतल ने राज को और दोनों बिजी हो गयी !!!

अगली सुबह से रुचिका और शीतल नैना के लिए लड़का ढूंढने में लग गयी लेकिन अपार्टमेंट में तो उन्हें ऐसा कोई नहीं मिला ,, ऑफिस में तो लड़के नैना के नाम से ही भाग गए और नैना बैठकर हंस रही थी ! रुचिका और शीतल ने प्लान केंसल किया और अपने अपने कामो में लग गयी !
शनिवार की दोपहर काम जल्दी ख़त्म हो गया तो ख़ुशी ने सबके लिए टिकट्स बुक करवा दी ! नैना , रुचिका , शीतल और ख़ुशी चारो फिल्म देखने चल पड़े लड़के भी जाना चाहते थे पर गर्ल्स टाइम बोलकर उन्हें मना कर दिया ! चारो थियेटर पहुंचे मूवी में अभी एक घंटा बाकि था इसलिए सभी मॉल में घूमने लगे ! शीतल को राज के लिए गिफ्ट लेना था इसलिए वह खुशी के साथ एक शॉप में चली गयी ! रुचिका नैना के साथ घूमने लगी घूमते हुए रुचिका की नजर कॉफी शॉप पर गयी तो उसने अपने लिए एक कोल्ड कॉफी ले ली और पीते हुए चलने लगीं ! नैना बस अपना फोन स्क्रॉल करते हुए चल रही थी ! अभी कुछ ही दूर चले की रुचिका ने अपना कॉफी का गिलास नैना को दिया कहा,”नैना तुम यही रुको मैं अभी आयी !”
“किधर जा रही हो ?”,नैना ने सवाल किया
“अरे रुको ना , आती हु मेरी कॉफी मत पीना तू !”,रुचिका ने जाते हुए कहा
“यककक मुझे कोई शौक नहीं है !”,नैना ने कहा और ग्लास को हाथ में थामे रुचिका के वापस लौटने का इंतजार करने लगी ! नैना फर्स्ट फ्लोर पर खड़ी थी निचे से ऊपर आने वाली सीढ़ियों पर अवि अपने कैमरे के साथ खड़ा था जैसे ही उसकी नजर नैना पर पड़ी उसने देखा नैना कॉफी के ग्लास को थामे हवा में उस ग्लास को किस कर रही है और क्यूट क्यूट फेस बना रही है ! अवि ने देखा तो तुरंत उसकी फोटो क्लिक कर ली और मन ही मन बहुत खुश हुआ ! वह जल्दी से सीढिया चढ़कर ऊपर आया लेकिन जैसे ही ऊपर आया नैना उसे वहा नहीं दिखी वह जा चुकी थी ! अवि ने अपनी गर्दन के पीछे हाथ लगाते हुए इधर उधर देखा पर नैना उसे दोबारा नहीं दिखी उसने कैमरे क्लिक की तस्वीर देखी और मुस्कुरा के आगे बढ़ गया ! नैना की उसके पास 2 तस्वीरें थी और इन दो तस्वीरों में उसने सिर्फ नैना की अच्छाई देखी थी !
रुचिका नैना के पास आयी तो नैना ने उसे ग्लास थमा दिया और और फिर कुछ देर बाद टियेटर के सामने पहुंची शीतल और ख़ुशी भी वहा मिल गयी चारो अंदर आकर अपनी अपनी कुर्सियों पर बैठ गयी ! फिल्म शुरू हुई जैसे ही स्क्रीन पर फिल्म का नाम आया नैना ने सर पिट लिया क्योकि वो एक लव स्टोरी मूवी थी !
खैर ख़ुशी ने पहली बार टिकट्स बुक किये थे इसलिए नैना को रुकना पड़ा वह मूवी देखने का उसका बिल्कुल मन नहीं था लेकिन बाकि तीनो लड़किया बड़े ध्यान से उसे देख रही थी ! नैना ने आलथी पालथी मारकर बैठी और दोनों हाथो की कोहनी अपने पैर पर टीकाकार अपनी ठोड़ी टीकाकार स्क्रीन को देखने लगी ! नैना की किस्मत कहे या फिर अवि की चाहत उसी थियेटर में अवि भी मौजूद था ,, मूवी देखते हुए उसकी नजर जब चार सीट छोड़कर बैठी नैना पर पड़ी तो वह बस देखता ही रह गया ! नैना उस वक्त इतनी मासूम दिख रही थी जितना शायद वो कभी न दिखी हो ! अवि कुछ देर उसे देखता रहा और फिर सामने देखने लगा क्योकि वह उस मूवी को मिस नहीं करना चाहता था ! नैना ने थोड़ी देर स्क्रीन पर नजर टिकाई और फिर सर सीट से लगाकर सो गयी ! शीतल ने देखा तो मुस्कुरा उठी और एक बार फिर अपना ध्यान मूवी पर लगा लिया ! मूवी खत्म होने के बाद सभी मूवी की तारीफ करते हुए बाहर आयी तो ख़ुशी ने नैना से कहा,”नैना कैसी थी मूवी ?”
“अरे गजब !”,नैना ने झूठ बोल दिया जबकि सच ये था उसने मुश्किल से 10 मिनिट की फिल्म देखी थी ! चारो थियेटर से बाहर आयी तो रुचिका ने कहा,”चलो ना कुछ खाते है !”
“हां यार मुझे भी बहुत भूख लगी है !”,ख़ुशी ने कहा और सभी रेस्टोरेंट में चले आये ! चारो आकर बैठी और अपना अपना आर्डर दिया ! बगल की टेबल पर बैठा एक लड़का क़ाफी देर से नैना को देखे जा रहा था ! रुचिका और शीतल ने नोटिस किया तभी लड़का उठकर उनकी टेबल के पास आया और नैना से कहा,”एक्सक्यूज मी , आप मुझे बहुत अच्छी लगी क्या आप मेरे साथ एक कप कॉफी पीना पसंद करेंगी प्लीज ?”
लड़का दिखने में अच्छा हट्टा कट्टा और स्मार्ट था नैना कुछ कहती इस से पहले ही रुचिका ने नैना के कान में कहा,”अच्छा मौका है नैना कही ना कही से तो शुरुआत करनी ही है ! लड़का सामने से आया है अच्छा मौका है”
“लेकिन मैं,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,नैना कुछ बोल पाती इस से पहले ही लड़के ने कहा,”प्लीज ना बोल कर मेरा दिल मत तोड़ना , इस रेस्टोरेंट में आपसे ज्यादा खूबसूरत कोई नहीं है ! प्लीज एक कप कॉफी , प्लीज !!”
लड़के की बात सुनकर नैना ने कहा,”ओके !”
लड़के ने बड़ी तमीज से हाथ नैना की और बढ़ाया और उसे लेकर अपनी टेबल पर ले गया रुचिका और शीतल खुश थी ! लड़के ने कॉफी आर्डर की तो नैना ने सिर्फ एक कप लाने को कहा इस पर लड़का बोल उठा,”आप नहीं पियेंगी ?”
“आई डोंट लाइक कॉफी , आप पीजिये मैं यही हु !”,नैना ने शायद पहली बार इतने शांत तरिके से कहा था !
“ओहके मैं कुछ और आर्डर कर दू आपके लिए”,लड़के ने कहा
“अरे नहीं थेंक्यू !”,नैना ने कहा
लड़का नैना को देखते हुए कॉफी पिने लगा तब तक नैना भी शांत बैठी रही ! रुचिका शीतल और ख़ुशी ने खाया और बिल पे कर दिया नैना ने जो बर्गर आर्डर किया था वो पैक करवा लिया क्योकि उन्हें अब निकलना था ! कॉफी खत्म होने के बाद नैना उठी और कहा,”नाइस टू मीट यू अब मैं चलती हु !”
“हे अगर मेरा आपसे बात करने का मन हुआ तो मैं कैसे करूंगा ? आई मीन आपका नंबर मिल जाता तो,,,,,,,,,,,,,,!”,लड़के ने कहा नैना जवाब देती इस से पहले ही रुचिका ने आगे आकर कहा,”नैना के पास फोन नहीं है आप मेरा नंबर ले लो हम साथ में ही रहते है मैं बात करवा दूंगी !”
लड़के ने ख़ुशी ख़ुशी रुचिका का नंबर ले लिया ! ख़ुशी थियेटर से सीधा घर चली गयी ! नैना ने बर्गर का पैकेट खोला और खाते हुए चलने लगी उसने खाते खाते कहा,”उसे नंबर देने की क्या जरूरत थीं ?”
“बात आगे बढ़ाने के लिए बात करना जरुरी है ना नैना ! वैसे भी वो बहुत क्यूट है , बिल्कुल रोमांटिक हीरो के जैसे !”,रुचिका ने कहा ! नैना ने बहस ना करके अपना ध्यान बर्गर पर लगा लिया ! मॉल से सीधा तीनो लड़किया अपार्टमेंट आ गई ! रात के खाने के बाद कुछ देर ऑफिस का पेंडिंग काम किया और 11 बजते ही नैना सोने चली गयी ! 11:30 बजे उसी लड़के का फोन आया जो मॉल में मिला था रुचिका ने कहा,”रुको बात करवाती हु !”
उसने फोन लाकर सोई हुई नैना को दिया नैना जो की आधी नींद में थी आधी होश में उसने फोन को कान से लगाया और कहा,”हम्म्म्म !”
“हे स्वीटी !”,दूसरी तरफ से लड़के की प्यारी सी आवाज आयी !
“ह्म्म्मम्म !”,नैना ने नींद में कहा वह लगभग जाग चुकी थी !
लड़के ने रोमांटिक होते हुए कहा,”मेला बाबू छौ ला है ?”
इतना सुनते ही नैना की नींद में खलल पड़ा और उसने गुस्से से कहा,”हां और तू भटूरा है , फोन रख साले !”
बेचारा लड़का इसके आगे कुछ बोल ही नहीं पाया और नैना ने बेड पर फोन साइड में फेंका और तकिया मुंह पर डालकर सो गयी !!!!!

क्रमश

Follow Me On – facebook

Follow Me On – instagram

संजना किरोड़ीवाल !!

47 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!