“हाँ ये मोहब्बत है” – 33

Haan Ye Mohabbat Hai – 33

heart a broken broken heart a

Haan Ye Mohabbat Hai
Haan Ye Mohabbat Hai

Haan Ye Mohabbat Hai – 33

छवि दीक्षित केस में अचानक से एक दिलचस्प मोड़ आया। छवि दीक्षित के वकील के एक्सीडेंट की वजह से उस केस को आगे बढ़ाने का मौका अक्षत व्यास को मिला जो की इस केस के लिए एक टर्निंग पॉइंट था। अक्षत व्यास अपने काम में कितना माहिर था ये कोर्ट में हर कोई जानता था चोपड़ा जी भी इस बात से अनजान नहीं थे और यही बात उन्हें परेशान कर रही थी की अक्षत व्यास इस केस को बहुत ही निष्पक्ष लड़ने वाला है।

जज साहब से मंजूरी मिलने के बाद अक्षत ने कुछ देर बाद कहा,”माय लार्ड चूँकि इस केस को मैंने अभी अभी अपने हाथ में लिया है इसलिए मैं अदालत से कुछ वक्त की अपील करता हूँ जिस में मैं अपने क्लाइंट से केस से जुडी जानकारी हासिल कर सकू ,, देट्स ऑल माय लार्ड”
“केस की गंभीरता को देखते हुए ये अदालत आपको 2 घंटे की मोहलत देती है , 2 घंटे बाद इस केस की सुनवाई आगे जारी रखी जाएगी”,कहते हुए जज साहब ने अपना हथौड़ा टेबल पर मारा और उठकर चले गए।

अक्षत ने एक बार फिर सर झुकाया और जैसे ही जाने लगा चोपड़ा जी उसके पास आये और कहा,”अदालत के बीच में केस को अपने हाथ में लेकर तुम्हे लगता है तुम ये केस जीत जाओगे ?”
अक्षत हल्का सा मुस्कुराया और कहा,”मैं नहीं जानता मैं ये केस जीतूंगा या नहीं लेकिन आपके चेहरे पर हार का डर मैं साफ देख पा रहा हूँ”
अक्षत की बात सुनकर चोपड़ा जी मन ही मन जलने लगे। अक्षत का यू आँख मिलाकर बात करना उन्हें अच्छा नहीं लग रहा था , उन्होंने अपने असिस्टेंट से चलने का इशारा किया और वहा से चले गए।

इंस्पेकटर कदम्ब अक्षत के पास आये और कहा,”थैंक्यू मिस्टर व्यास आज आप अगर सही वक्त पर नहीं आते तो विक्की सिंघानिया यहाँ से बरी हो जाता। इस केस में आपको जब भी कोई जरूरत पड़े तो बताईयेगा , पुलिस आपके साथ है।”
“थैंक्यू इंस्पेकटर”,अक्षत ने कदम्ब से हाथ मिलाते हुए कहा
छवि अपनी माँ के साथ अक्षत के पास आयी और आँखों में आँसू भरते हुए कहा,”थैंक्यू सो मच सर”


“आपका बहुत बहुत शुक्रिया वकील साहब , आज आप नहीं आते तो मेरी बेटी को कभी इंसाफ मिल ही नहीं पाता”,कहते हुए माधवी जी ने जैसे ही हाथ जोड़ने चाहे अक्षत ने उनके हाथो को थामकर कहा,”ये आप क्या कर रही है ? मुझे ख़ुशी होगी अगर मैं छवि को इंसाफ दिला पाया,,,,,,,,,,,,,,,,,सचिन इन्हे केबिन में लेकर चलो मैं थोड़ी देर में आता हूँ”
“आईये”,सचिन ने कहा और छवि , माधवी जी और कमल को साथ लेकर वहा से चला गया। अक्षत ने वहा कोर्ट रूम से केस को लेकर कुछ जरुरी जानकारी ली और फिर वहा से बाहर निकल गया। कॉरिडोर में खड़े कुछ वकीलों ने अक्षत को घेर लिया और सवालो को झड़ी लगा दी


“अक्षत तुम पागल हो गए हो क्या जानते हो तुम्हारे ओपोजिट वकील कितना होशियार है वो तुम्हे इतनी आसानी से जीतने नहीं देगा”
“यार व्यास तुमने गलत जगह हाथ डाला है , यहाँ से कुछ हासिल नहीं होने वाला”
“तुम्हे क्या लगता है मणिशंकर का एक्सीडेंट दुर्घटना थी , आज केस की सुनवाई थी और एक रात पहले उसका एक्सीडेंट,,,,,,,,,,समझ रहे हो कुछ”
“एक बार फिर सोच वकील साहब,,,,,,,,,,,,,,,,,चोपड़ा जी को हराना मुश्किल है”


अक्षत ने अपने साथी वकीलों की बात सुनी और मुस्कुराने लगा। सभी वकील हैरानी से देखने लगे तो अक्षत ने कहा,”जिस दिन इस फिल्ड को चुना था उसी दिन इन सारे सवालो का जवाब ढूंढ लिया था , महज एक हारने के डर से मैं सच के लिए लड़ना तो बिल्कुल नहीं छोड़ सकता,,,,,,,,,,,,,,,,,,अगली सुनवाई में मिलते है”
कहकर अक्षत वहा से चला गया और बाकि वकील भी इधर उधर चले गए। केबिन में आकर अक्षत ने सबके लिए चाय मंगवाई , उन्हें सहज किया ताकि छवि आराम से अक्षत को सब बता सके।

अक्षत , छवि और छवि के घरवालों के अलावा वहा अखिल , सचिन और चित्रा भी मौजूद थे। अक्षत ने छवि से कुछ सवाल किये जब छवि ने अपने साथ हुई आपबीती बतानी शुरू की तो वहा मौजूद हर किसी का दिल पसीजने लगा था। अक्षत के चेहरे पर कोई भाव नहीं थे वह बस ध्यान से छवि की बात सुनते जा रहा था। कुछ देर बाद अक्षत ने कहा,”छवि कोर्ट रूम में तुमसे बहुत सारे ऐसे सवाल किये जायेंगे जो तुम्हे असहज करेंगे , तुम्हे डरना नहीं है बस शांत रहकर उन सवालो के जवाब देने है।

बिना किसी झिझक और हिचकिचाहट के अपनी बात जज साहब के सामने रखनी है। सामने वाला वकील अपनी बातो से तुम्हे गुस्सा दिलाएगा , तुम्हे उकसायेगा , तुमसे सवाल करेगा लेकिन तुम्हे अपना पेसेंस ना खोकर उन सवालो का जवाब देना है। तुम्हे इंसाफ दिलाने के लिए मैं पूरी कोशिश करूंगा बस तुम हिम्मत मत हारना”
“हम्म्म्म”,छवि ने हामी भरी हालाँकि उसकी आँखो से आँसू अभी भी थे।

दो घंटे बाद सुनवाई फिर शुरू हुई कोर्टरूम खचाखच भरा हुआ था। इस बार चोपड़ा जी के सामने खड़ा वकील अक्षत व्यास था। विक्की कटघरे में खड़ा था और छवि अपनी माँ के साथ पीछे कुर्सी पर बैठी थी। सिंघानिया जी भी अपने मैनेजर और कुछ लोगो के साथ चोपड़ा जी की टेबल के पीछे बैठे थे। कुछ देर बाद जज साहब आये और सब अपनी अपनी जगह खड़े हो गए। जज साहब ने अपना हथोड़ा टेबल पर मारते हुए सबको बैठने को कहा।


अक्षत अपनी टेबल के सामने से आगे आया और कहने लगा,”माय लार्ड कटघरे में खड़ा ये शख़्स जिसका नाम विक्की सिंघानिया है पर मेरी क्लाइंट छवि दीक्षित को अगवा करने और उसके साथ ज्यादती करने का आरोप है। छवि दीक्षित की मेडिकल रिपोर्ट से ये साबित होता है की छवि दीक्षित का शोषण हुआ है साथ ही छवि दीक्षित के 164 के बयानों की एक कॉपी आपके समक्ष पेश की गयी है। छवि दीक्षित एक मिडिल क्लास फेमिली से बिलोंग करती है और अपनी जिम्मेदारियों के चलते कुछ वक्त पहले तक VS कम्पनी में एक इम्प्लॉय के तौर पर कार्यरत थी। विक्की सिंघानिया एक रईस परिवार से है जिन्हे देर रात पार्टी और आवारागर्दी करने का बहुत शौक है।

विक्की सिंघानिया उस वक्त से छवि दीक्षित को जानते है जब वो इनके पापा की कम्पनी में काम कर रही थी। वहा भी विक्की सिंघानिया का व्यव्हार छवि दीक्षित के साथ कुछ खास अच्छा नहीं रहा और काफी बार उनके बीच बहस भी हुयी।  
विक्की सिंघानिया की बदतमीजियों से परेशान होकर छवि दीक्षित ने VS कम्पनी की नौकरी छोड़ दी लेकिन अपने ईगो के चलते विक्की सिंघानिया उन्हें फिर भी परेशान करते रहे। छवि दीक्षित ने जब उनके खिलाफ पुलिस कंप्लेंट करनी चाही तो चौकी थाने के SI ने उनकी कंप्लेंट लिखने से इंकार कर दिया जिसका डिटेल्स मैं पेश कर चुका हूँ

। विक्की सिंघानिया गुस्से में थे और छवि से बदला लेना चाहते थे इसी के चलते होली की सुबह इन्होने छवि को अगवा किया और उसे अपने फार्म हॉउस लेकर चले गए। वहा इन्होने छवि दीक्षित को कमरे में बंद रखा और फिर उसके साथ ज्यादती करके अगले दिन उसे बुरी हालत में हाई वे के पास छोड़कर चला गया। मैं अदालत से दरख्वास्त करूंगा की विक्की सिंघानिया को इस जुर्म की कड़ी से कड़ी सजा दी जाये,,,,,,,,,,,,,,,,देट्स ऑल माय लार्ड”


“मिस्टर चोपड़ा”,जज साहब ने अपने सामने पड़ी फाइल में कुछ नोट किया और चोपड़ा जी से कहा तो चोपड़ा जी उठकर आगे आये और कहा,”यस माय लार्ड , मेरे साथी वकील मिस्टर व्यास ने जो कहानी सुनाई है वो कहानी अदालत पहले भी सुन चुकी है उसमे कुछ नया नहीं है,,,,,,,,,,,,,,,,मैं छवि दीक्षित को कटघरे में बुलाने की इजाजत चाहूंगा माय लार्ड ?”


“इजाजत है”,जज साहब ने कहा तो अक्षत ने पलटकर छवि को देखा और अपनी पलकें झपका दी। छवि उठी और कटघरे में आकर खड़ी हो गयी। उसने जज साहब को देखकर हल्का सा अपना सर झुकाया और हाथ बांधकर खड़े हो गयी। चोपड़ा जी छवि के सामने आये और उस से पहला सवाल किया,”मिस छवि आपके सामने खड़े इस शख्स को आप कब से जानती है ?”
“VS कम्पनी ज्वाइन करने के दो दिन बाद ही ये ऑफिस आये थे”,छवि ने पलकें झुकाये हुए बहुत ही सहजता से जवाब दिया


“जिस लड़के पर आपने रेप का इल्जाम लगाया है उस से आप पहली बार कहा मिली कब मिली ये बात आपको इतने अच्छे से कैसे याद है ?”,चोपड़ा जी ने पूछा
“क्योकि उस दिन इन्होने मेरे साथ बदतमीजी की थी”,छवि ने विक्की की तरफ देखकर कहा
“किस तरह की बदतमीजी ? मतलब अगर विक्की ने तुम्हारे साथ बदतमीजी की तो तुमने इस बात की शिकायत क्यों नहीं की ?”,चोपड़ा जी ने पूछा


“मैंने शिकायत की थी लेकिन कम्पनी के MD का बेटा होने के कारण मुझे चुप रहने और इग्नोर करने को कहा गया”,छवि ने जवाब दिया
“अगर ऐसा था तो तुम्हे वो नौकरी छोड़ देनी चाहिए थी , एक लड़की के लिए उसकी सेल्फ रिस्पेक्ट पहले है आई थिंक,,,,,,,,,,,,,,,,,,एंड मुझे लगता है उसके बाद तुमने वो नौकरी छोड़ दी होगी राइट ?”,चोपड़ा जी ने बातो का जाल बुनना शुरू किया
“नहीं मैंने जॉब नहीं छोड़ी”,छवि ने धीरे से कहा


“पर क्यों ?”,चोपड़ा जी ने पूछा
“क्योकि वो जॉब मुझे बहुत मुश्किल से मिली थी और उस वक्त मेरे घर के हालात अच्छे नहीं थे मुझे पैसे की जरूरत थी,,,,,,,,,,,,,,,,,,!!”,छवि ने प्रेशर में आकर कहा जिसे सुनकर अक्षत ने छवि की तरफ देखा
“पॉइंट टू बी नोटेड माय लार्ड , छवि दीक्षित ने VS कम्पनी पैसो के लिए ज्वाइन की , विक्की सिंघानिया के बदतमीजी करने के बाद भी ये उस कम्पनी में रुकी क्योकि इनके लिए पैसे इम्पोर्टेन्ट थे”,चोपड़ा जी ने जज साहब की तरफ पलटकर कहा


“ऑबजेक्शन माय लार्ड”,अक्षत ने कहा लेकिन चोपड़ा जी के सवाल अभी खत्म नहीं हुए थे इसलिए जज साहब ने कहा,”ऑब्जेक्शन ओवररुड”
“थैंक्यू माय लार्ड”,चोपड़ा जी ने कहा अक्षत अपनी जगह ख़ामोशी से खड़ा हो गया।  
चोपड़ा जी एक बार फिर छवि के सामने थे उन्होंने छवि से अगला सवाल किया,”मिस छवि दीक्षित क्या आपका कोई बॉयफ्रेंड है ? किसी के साथ आपके फिजिकल रिलेशन रहे है ?”


चोपड़ा जी का सवाल सुनकर छवि असहज हो गयी , चोपड़ा जी जानबूझकर ऐसे सवाल कर रहे थे जिस छवि घबरा जाये और केस कमजोर पड़ जाए
“ऑब्जेक्शन मायलॉर्ड , वकील साहब मेरे क्लाइंट से ऐसे निजी सवाल नहीं पूछ सकते जिनका इस केस से कोई संबंध नहीं है”,अक्षत ने फिर ऑब्जेक्शन उठाते हुए कहा
“संबंध है माय लार्ड और ये मैं साबित कर दूंगा”,चोपड़ा जी ने कहा


“प्रोसीड”,जज साहब ने कहा तो चोपड़ा जी फिर छवि की तरफ पलटे और कहा,”मिस छवि क्या आपके किसी से फिजिकल रिलेशन रहे है ?”
“नहीं,,,,,,,,!!”,छवि ने खुद को मजबूत करते हुए कहा
“आपका कहना है की मिस्टर विक्की ने आपको अगवा किया और फिर आपके साथ रेप किया , आप इतने यकीन के साथ कैसे कह सकती है की वो विक्की सिंघानिया ही थे ?”,चोपड़ा जी ने फिर उलझाने वाला सवाल किया


छवि ने सूना तो एक नजर विक्की को देखा और कहने लगी,”एक लड़की के साथ कोई बुरा बर्ताव करे तो वो उसे कैसे भूल सकती है ? विक्की सिंघानिया मुझसे बदला लेना चाहता था और इसलिए उसने मेरे साथ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,!!”
कहते कहते छवि की आँखों में आँसू झिलमिलाने लगे  
“माय लार्ड छवि दीक्षित का कहना है की विक्की सिंघानिया उस से बदला लेना चाहते थे इसलिए उसने इनके साथ रेप कर दिया , एक छोटे से बदले के लिए विक्की सिंघानिया किसी का रेप क्यों करेगा ?

विक्की सिंघानिया VS कम्पनी के नए MD बनने वाले थे इसलिए छवि दीक्षित ने उन्हें अपने जाल में फ़साना शुरू कर दिया , जब विक्की सिंघानिया ने उन्हें कोई भाव नहीं दिया तो छवि दीक्षित उनके करीब जाने की कोशिश करने लगी , उन्होंने हर तरह से विक्की सिंघानिया को रिझाने की कोशिश की और आखिर में छवि के बर्ताव से परेशान होकर उन्होंने छवि दीक्षित को कम्पनी से निकाल दिया। कम्पनी से निकाले जाने के बाद जब छवि दीक्षित को कही काम नहीं मिला तो उन्होंने नया काम शुरू किया और पैसे लेकर क्लाइंट्स के साथ रात गुजारना शुरू कर दिया”,चोपड़ा जी ने जोश के साथ अपनी बात रखी


“ये झूठ है,,,,,,,,,,,,,,,,,,मैंने ऐसा कुछ नहीं किया”,छवि ने चोपड़ा जी की बात बीच में काटते हुए कहा
“मिस छवि दीक्षित आपको आपकी बात रखने का मौका मिलेगा , प्लीज साइलेंस”,जज साहब ने अपना हथोड़ा टेबल पर मारते हुए कहा।
“माय लार्ड होली की सुबह भी छवि को पैसो की जरूरत थी जब इन्हे कोई नहीं मिला तो ये विक्की सिंघानिया से मिलने उनके फार्म हॉउस पहुंची। छवि दीक्षित ने पैसे लेकर विक्की सिंघानिया के साथ रिलेशन बनाने की बात कही तो विक्की सिंघानिया ने इसे वहा से निकाल दिया। गुस्से में छवि दीक्षित वहा से लौट गयी।

महज विक्की सिंघानिया को बदनाम करने के लिए छवि दीक्षित ने उन पर रेप का झूठा इल्जाम लगाया क्योकि ये जानती थी इसके इल्जाम के बाद विक्की सिंघानिया का नाम तेजी से उछलेगा। मेरे क्लाइंट विक्की सिंघानिया इनोसेंट है माय लार्ड मैं अदालत से दरख्वास्त करना चाहूंगा मेरे क्लाइंट पर लगाए सभी इल्जाम को ख़ारिज करते हुए उन्हें रिहा किया जाये और साथ ही मिस छवि दीक्षित को झूठा आरोप लगाने के लिए कड़ी से कड़ी सजा दी जाये। देट्स ऑल माय लार्ड”,चोपड़ा जी ने सर झुकाते हुए कहा


चोपड़ा जी ने कटघरे में इंसाफ मांगने के लिए खड़ी छवि दीक्षित को पल भर में ही झूठा साबित कर दिया। उसके बारे में काफी अपमानजनक बातें कही गयी जिन्हे सुनकर कमल जी और माधवी जी का दिल टूटकर बिखर गया। उनकी बच्ची को कैसे कैसे सवालो का सामना करना पड़ रहा था। जज साहब ने सामने पड़ी फाइल में कुछ नोट किया और फिर छवि की तरफ देखकर कहा,”मिस छवि आप कुछ कहना चाहती है ?”


“जज साहब ये सब झूठ है , मैं कोई गलत काम नहीं करती मैं सच कह रही हूँ ,, मुझपर लगाए गए इल्जाम गलत है। इसने मेरे साथ गलत किया है , मेरी जिंदगी खराब कर दी मेरा यकीन कीजिये मैं झूठ नहीं बोल रही , मैं सच कह रही हूँ”,कहते हुए छवि रो पड़ी जज साहब ने उसे अपनी जगह जाकर बैठने को कहा तो छवि माधवी जी के बगल में आकर बैठ गयी।
“मिस्टर व्यास क्या आप कुछ कहना चाहेंगे ?”,जज साहब ने अक्षत की तरफ देखकर कहा
“यस माय लार्ड , मैं विक्की सिंघानिया से कुछ सवाल करने की इजाजत चाहूंगा ?”,अक्षत ने कहा


“इजाजत है”,जज साहब ने कहा
“थैंक्यू माय लार्ड”,कहकर अक्षत विक्की सिंघानिया के सामने आ खड़ा हुआ। विक्की सिंघानिया ने जैसे ही अक्षत को देखा उसे एकदम से वो रात याद आ गयी जब अक्षत ने उसे घुसा मारा था। विक्की सिंघानिया ख़ामोशी से अक्षत को देखता रहा। अक्षत ने विक्की की आँखों में देखते हुए पूछा,”मिस्टर विक्की वारदात वाले दिन आप कहा थे ?”
“मैं अपने घर में था , मेरे डेड ने पार्टी रखी थी जिसमे मेरे कुछ दोस्त आये हुए थे मैं उन्ही के साथ था”,विक्की ने सहजता से कहा


“मैं सुबह की नहीं बल्कि शाम की बात कर रहा हूँ , वारदात की शाम कहा थे ?”,अक्षत ने पूछा
“होली खेलने के बाद मैं अपने फार्म हॉउस गया था अपने दोस्त के साथ”,विक्की सिंघानिया ने कहा
“क्या आप अपने उस दोस्त का नाम बता सकते है ?”,अक्षत ने पूछा
विक्की के यू तो बहुत से दोस्त थे लेकिन कुमार उसका सबसे करीबी दोस्त था इसलिए उसने झट से कुमार का नाम लेते हुए कहा,”कुमार”
“क्या ये वही है ?”,अक्षत ने एक तस्वीर विक्की को दिखाते हुए पूछा


“हम्म्म”,विक्की ने भी हाँ में गर्दन हिला दी अक्षत को देखकर चोपड़ा जी ने कहा,”ऑब्जेक्शन माय लार्ड वकील साहब ये सब सवाल पूछकर सिर्फ अदालत का वक्त जाया कर रहे है , ये कैसे बचकाना सवाल है ?”
“ऑब्जेक्शन ओवररुड”,जज साहब ने कहा तो चोपड़ा जी को रुकना पड़ा  


“पॉइंट टू बी नोटेड मायलॉर्ड , विक्की सिंघानिया का कहना है की उस शाम ये अपने दोस्त कुमार के साथ फार्म हॉउस पर थे जबकि ये तस्वीर उसी शाम कैसोनोवा क्लब की है जिसमे कुमार अपने दोस्तों के साथ है। माय लार्ड एक ही इंसान दो जगह कैसे हो सकता है ? जबकि फ़ार्म हॉउस से क्लब की दूरी 50 किलोमीटर है”,अक्षत ने कहा तो चोपड़ा जी झल्ला गए अक्षत ने एक बहुत ही बारीक़ पॉइंट पकड़ा था। विक्की ने जल्दबाजी में कुमार का नाम लेकर एक छोटी सी गलती कर दी थी।

sanjana kirodiwal books sanjana kirodiwal ranjhana season 2 sanjana kirodiwal kitni mohabbat hai sanjana kirodiwal manmarjiyan season 3 sanjana kirodiwal manmarjiyan season 1

Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33

Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33Haan Ye Mohabbat Hai – 33

क्रमश – Haan Ye Mohabbat Hai – 34

Read More – “हाँ ये मोहब्बत है” – 32

Follow Me On – facebook

संजना किरोड़ीवाल 

Haan Ye Mohabbat Hai
Haan Ye Mohabbat Hai
Haan Ye Mohabbat Hai
Haan Ye Mohabbat Hai

6 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!