Tag: #Manmarjiyan

रांझणा – 34

Ranjhana – 34 heart a brokenbroken heart a Ranjhana – 34 सारिका के ऑफिस में मुरारी की अनामिका से दुसरी मुलाकात थी , या यूं कहें दूसरी झड़प थी l सारिका ने अनु को शांत किया और काका के साथ घर...

“मैं तेरी हीर” – 23

Main Teri Heer – 23 Main Teri Heer – 23 घाट पर सफ़ेद दुप्पटे वाली लड़की को देखकर मुन्ना का मन एक बार फिर बैचैन हो गया वह गौरी के बारे में सोचने लगा। चलते चलते उसे कुछ ही दूर खड़े...

मनमर्जियाँ – S100

Manmarjiyan – S100 Manmarjiyan – S100 गुड्डू ने जो किया वो शगुन के लिए बहुत बड़ी बात थी। उसकी आँखों में आंसू थे लेकिन ख़ुशी के ,, अमूमन लोग जब गलतिया करते है तो माफ़ी मांगते है और सब भूल जाते...

मनमर्जियाँ – S99

Manmarjiyan – S99 Manmarjiyan – S99 पाठको के साथ साथ मुझे भी लगता था की अब तक गुड्डू सुधर जाएगा लेकिन उसकी शरारतें अभी भी वैसी ही थी। मेहँदी में गुड्डू और गोलू को शामिल ही नहीं होने दिया गया तो...

मनमर्जियाँ – S98

Manmarjiyan – S98 Manmarjiyan – S98 शगुन गुड्डू के लिए खाना लेकर आयी लेकिन गुडू सो चुका था। शगुन ने गुड्डू को कम्बल ओढ़ाई और खाने की प्लेट लेकर वापस नीचे चली आयी उसे अकेले देखकर प्रीति ने कहा,”दी जीजू कहा...

मनमर्जियाँ – S97

Manmarjiyan – S97 Manmarjiyan – S97 गुड्डू की यादास्त वापस आ चुकी थी। शगुन के सामने वह अपनी फीलिंग्स शो कर चुका था। जिस पारस से गुड्डू चिढ़ता था वह उसका अच्छा दोस्त बन चुका था प्रीति की शादी में शामिल...

मनमर्जियाँ – S96

Manmarjiyan – S96 Manmarjiyan – S96 गुड्डू बनारस के दशाश्वमेध घाट की सीढ़ियों पर खड़ा उठक बैठक निकाल रहा था और शगुन भीगी आँखों से उसे देख रही थी। जब शगुन ने गुड्डू के मुंह से वो सब बातें सुनी तो...

मनमर्जियाँ – S95

Manmarjiyan – S95 Manmarjiyan – S95 बनारस , उत्तर-प्रदेशसुबह से शगुन शादी की तैयारियों में लगी हुई थी आज घर में बहुत काम था। आज शाम में रोहन के घरवाले आने वाले थे इसलिए सबको गेस्ट हॉउस के लिए निकलना था।...

मनमर्जियाँ – S94

Manmarjiyan – S94 Manmarjiyan – S94 गुड्डू के सामने मिश्रा जी ने सारी सच्चाई रख दी। उन्हें गुड्डू की यादास्त से ज्यादा फ़िक्र शगुन और उसके रिश्ते की थी। उन्होंने जब गुड्डू को सच बताया तो गुड्डू को बहुत दुःख हुआ।...

मनमर्जियाँ -S93

Manmarjiyan – S93 Manmarjiyan – S93 शगुन के साथ किये बर्ताव का गुड्डू को बहुत अफ़सोस था। शगुन के जाने के बाद वह बिल्कुल अकेला हो चुका था। घर में हर जगह उसे शगुन दिखाई दे रही थी उसकी यादो से...
error: Content is protected !!