Love You जिंदगी – 28

Love you Zindagi
love-you-zindagi-28

Love You Zindagi – 28

शाम के 5 बज रहे थे शीतल और नैना रुचिका को लेकर अपार्टमेंट पहुंची ! तीनो अपने फ्लेट में आयी रुचिका अभी पूरी तरह ठीक नहीं थी नैना ने सहारा देकर उसे सोफे पर बैठाया और खुद पानी लेने चली गयी ! फ्रिज से बोतल निकालकर उसने पहले खुद पानी पीया और बाद में लाकर शीतल की और बढ़ा दिया ! इन दो दिनों में नैना काफी थक चुकी थी ! वह सोफे पर रुचिका के सामने आ बैठी और सर पीछे लगा लिया उसके चेहरे पर आयी थकान शीतल को साफ दिखाई दे रही थी ! वह चुपचाप उठी और किचन में आकर नैना के लिए चाय बनाने लगी ! कुछ देर बाद शीतल नैना के लिए चाय और अपने रुचिका के लिए कॉफी ले आयी ! शीतल ने नैना की तरफ चाय का कप बढ़ाया तो नैना मुस्कुरा दी और चाय पिने लगी ! उसे इत्मीनान से चाय पीते देखकर शीतल ने कहा,”नैना तुमसे एक बात पुछु ?”
“हम्म्म , पूछो !”,नैना ने चाय पीते हुए कहा
“तुम चाय इतनी पसंद क्यों है ? ऐसा क्या है इसमें ?”,शीतल ने कहा
“दूसरे लोगो की नजर से देखा जाए तो ये बस दूध , पानी , चाय , चीनी और अदरक का मिक्सचर है , पर मेरे लिए सुकून है ! इसे पिने के बाद मेरी आधी से ज्यादा परेशानिया कम हो जाती है ! और चाय ऐसी चीज है जो कभी धोका नहीं देती !”,कहते हुए नैना मुस्कुरा दी !
“पागल हो तुम सच में ! अच्छा ये बताओ खाने में क्या खाओगी तुम लोग ?”,शीतल ने कहा
“दाल छोड़कर कुछ भी चलेगा , बाकि रुचिका के लिए कुछ हल्का फुल्का ही क्योकि अभी अभी हॉस्पिटल से आयी है ! तुम रुको मैं ऑनलाइन आर्डर कर दूंगी !”,नैना ने कहा
“अरे मैं बना लुंगी !”,शीतल ने कहा
“तुम भी तो कल रात से हॉस्पिटल थी ना थक गयी होगी , जाकर फ्रेश हो जाओ तब तक मैं खाना आर्डर कर दूंगी !”,नैना ने कहा तो शीतल कॉफी ख़त्म कर रुचिका को अपने साथ लेकर चली गयी ! नैना भी उठकर नहाने चली गयी ! नहाने के बाद उसे काफी अच्छा महसूस हो रहा था वह अपना फोन लेकर बालकनी में चली आयी और न्यूज़ फीड्स स्क्रॉल करने लगी ! रुचिका नहाकर रूम में ही लेट गयी और शीतल राज को फोन लगाने लगी ! राज से उसकी ज्यादा बात नहीं हो पाई क्योकि वह बिजी था ! शीतल रुचिका के पास आकर बैठ गयी और बातें करने लगी !
“शीतल राज के साथ तुम्हारा रिलेशनशिप सही है ना ? जिस तरह सचिन ने मुझे इस्तेमाल किया कही राज भी तो ?”,रुचिका ने अपनी शंका जताते हुए कहा
“रुचिका ऐसा कुछ भी नहीं है सचिन ने तुमसे कभी प्यार किया ही नहीं था , लेकिन राज ! राज ऐसा नहीं है वो मुझसे बहुत प्यार करता है ,, मुझे लेकर पजेसिव है इसलिए थोड़ा तनाव है हमारे बिच लेकिन मुझे यकीन हैं सब सही हो जाएगा !”,शीतल ने कहा
“मुझे तो अब डर लगने लगा है , मैं कितनी स्टुपिड थी मैंने आँख बंद करके सचिन पर भरोसा कर लिया और उसने,,,,,,,,,,,,,,!”,कहते हुए रुचिका की आँखे भर आयी ! ये देखकर शीतल उसके पास आयी और उसका सर सहलाते हुए कहा,”ये तो अच्छा हुआ न रुचिका जल्दी ही उसकी सच्चाई सामने आ गयी ! तुम्हे ऐसे इंसान के लिए आंसू बहाने की जरूरत नहीं है !”
“लेकिन मैंने उसे दिल से प्यार किया था शीतल फिर भी उसने मेरे साथ ऐसा क्यों किया ? मैं अब जिंदगी में कभी किसी पर भरोसा नहीं कर पाऊँगी , किसी से प्यार नहीं कर पाऊँगी !”,कहते हुए रुचिका ने अपना सर शीतल की गोद में छुपा लिया और सिसकने लगी ! शीतल उसका सर सहलाते रही वह उसके दिल टूटने का दर्द अच्छे से समझ सकती थी ! रुचिका गलत नहीं थी उसने तो दिल से सचिन को अपना समझा था , प्यार किया था , उसके साथ भविष्य के सपने देखे थे लेकिन सचिन ने उसके दिल के साथ साथ उसके सपनो को तोड़ दिया !! शीतल काफी देर तक रुचिका का सर सहलाती रही ! बाहर बालकनी में खड़ी नैना के कानो में फोन की रिंग पड़ी ! वह अंदर हॉल की और आयी तो देखा सोफे के सामने पड़ी टेबल पर पड़ा रुचिका का फोन बज रहा है ! नैना ने फोन देखा तो उसकी भँवे तन गयी , फोन सचिन का था नैना ने फोन उठाकर कान से लगा लिया दूसरी और से आवाज आयी – हाय रुचिका ! फैसला तो तुमने कर ही लिया होगा , तुम्हे अपनी नौकरी प्यारी है या फिर अपनी ,,,,,,,,,,,,,,,,, खैर आज शाम 7 बजे मैं तुम्हारा इंतजार करूँगा रॉयल इन में रूम नंबर 307 ,, बाय !”
इतना कहकर सचिन ने फोन काट दिया नैना ने जैसे ही सूना उसका दिमाग खिसक गया ! वह फोन लेकर सीधा कमरे में आयी और रुचिका की बांह पकड़कर उसे उठाते हुए कहा,”सचिन से तेरी क्या बात हुई है ? उसने तुझे आज मिलने को कहा था ?”
नैना का गुस्सा देखकर रुचिका थोड़ा सहम गयी और कहा,”छोड़ ना वो सब नैना !”
“नहीं मैं नहीं छोड़ने वाली तू बता मुझे हुआ क्या है ? कुछ तो है जो तू मुझसे छुपा रही है ! रुचि प्लीज भगवान के लिए मुझे बता बात क्या है ?”,नैना ने कहा
“नैना क्या हुआ तू इतना गुस्से में क्यों है ?”,शीतल ने कहा
“अरे वो हरामी साला , होटल आने को बोल रहा है इसे ! उसकी तो मैं,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,उसे अगर मैंने सबक नहीं सिखाया ना तो मेरा भी नाम नैना बजाज नहीं !”,नैना ने गुस्से से कहा रुचिका को खामोश देखकर उसका गुस्सा और बढ़ गया तो उसने रुचिका को झंझोड़ते हुए कहा,”रूचि बता मुझे क्या बात हुई है तुम दोनों के बिच ?”
रुचिका ने नैना को एक दिन पहले की सारी बात बता दी ! नैना ने सूना तो अपना सर पकड़ लिया और वही बिस्तर के कोने पर बैठ गयी ! शीतल ने सूना तो उसे भी एक झटका सा लगा की रुचिका इन सब टॉर्चर से गुजर रही थी ! वह नैना के पास आयी और कहा,”ये सचिन इतना घटिया निकलेगा कभी सोचा नहीं था !”
“घटिया सचिन नहीं वो मैनेजर है जो उस से ये सब करवा रहा है !”,नैना ने सोचते हुए कहा
“नैना उसने एक बार रुचिका के साथ भी गलत हरकत की थी और मुझे भी गलत तरह से छुआ था !”,शीतल ने डरते डरते बताया ये सुनकर नैना ने एक बार फिर अपना सर पकड़ लिया और गुस्से से कहा,”और ये सब तुम मुझे अभी बता रही हो , वो हरामखोर जब ये सब कर रहा था तब उसे जवाब क्यों नहीं दिया ?”
“नैना वो हमारा मैनेजर है और मुझे लगा की बाहर किसी को इस बारे में पता चला तो मेरी बदनामी होगी !”,शीतल ने सर झुकाकर कहा
“कैसी बदनामी ? खुद को प्रोटेक्ट करना बदनामी है ,, तुम लोगो की चुप्पी की वजह से ही ऐसे लोगो की हिम्मत बढ़ जाती है ! अगर पहली ही बार में धर के एक कंटाप दिया होता ना तो अकल आ जाती उसे लेकिन नहीं इज्जत के नाम पर ये गंध लेकर बैठते रहते है सब !”,नैना ने दाँत पिसते हुए कहा
रुचिका ख़ामोशी से सब सुने जा रही थी और फिर अचानक से रोने लगी और कहा,”मुझे माफ़ कर दो नैना ये सब मेरी वजह से हो रहा है !”
“रो मत रुचि इन लोगो का दिमाग ठिकाने पर कैसे लाना है मैं अच्छी तरह जानती हूँ !”,नैना ने कहा और रुचिका का फोन उसकी और बढाकर कहा,”फोन लगा सचिन को और नार्मल होकर बोल की तू उस से मिलने को तैयार है लेकिन अकेले , वो अपने साथ बॉस को लेकर ना आये !”
“लेकिन,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,!!”,रुचिका ने कहना चाहा तो नैना ने कहा,”लेकिन वेकिन कुछ नहीं तू बोल , ये लोग तुझसे हेंडल नहीं होंगे इन्हे मैं देख लुंगी तू उसे अकेले आने को राजी कर तब तक मैं तैयार होकर आती हूँ !”
नैना चली गयी ! रुचिका ने सचिन से बात की और वैसा ही कहा जैसा नैना ने कहा था ! सचिन ने भी एक पल के लिए मन बदल लिया उसने पहले खुद रुचिका से साथ वक्त बिताने का सोचा और बाद में मैनेजर के पास भेजने का ! उसने ख़ुशी ख़ुशी हां कह दिया ! कुछ देर बाद नैना तैयार होकर आयी ! ब्लेक जींस , रेड ब्लैक चेक्स वाला शर्ट ,, वह काफी अच्छी लग रही थी उसने हाथ पर घडी बांधते हुए कहा,”तेरा फोन मुझे दे दे !”
रुचिका ने अपना फोन नैना की और बढ़ाकर कहा,”नैना मत जाओ ना , मुझे डर लग रहा है !”
“मुझपे भरोसा रखो रूचि जितनी भसड़ उसने तुम्हारी जिंदगी में मचाई है , उस से चार गुना ज्यादा अगर मैंने उसकी जिंदगी में नहीं मचाई तो मैं अपने बाप की औलाद नहीं ! सचिन जैसे लौंडो से डील करना कोई बड़ी बात नहीं है ! जितना हरामी वो है उस से ज्यादा हरामीपन देखा है मैंने अपनी जिंदगी में ,, तू बस चिल कर !”,नैना ने फोन लेकर जींस की पॉकेट में डालते हुए कहा !
“नैना मैं भी तुम्हारे साथ चलती हूँ !”,शीतल ने कहा
“हां हां चलो मंदिर का प्रशाद बंट रहा है ना वहा , तुम भी चलो , रुचिका को भी लेकर चलो मैं तो कहती हूँ पूरी बारात लेकर चलते है”,नैना ने कहा तो शीतल वापस निचे बैठ गयी ! नैना उसके पास आयी और कंधे पर हाथ रखते हुए कहा,”शीतल तुम यही रुको और इसका ख्याल रखो , मैं जल्दी ही सब ठीक करके वापस आ जाउंगी !”
“नैना अपना ख्याल रखना !”,शीतल ने कहा
“हम्म्म , तुम लोग भी”,नैना ने कहा और जाने लगी तो रुचिका ने कहा,”अच्छा नैना एक बात बताओ तुम कैब में वो गाना क्यों गा रही थी आज ?”
नैना मुस्कुरायी और कहा,”क्योकि मैं जानती थी आज मेरी उस बन्दे से मुलाकात होनी है , वो तो अब तक तेरी वजह से रुकी हुई थी वरना उसकी तो अब तक वाट लगा देनी थी मैंने !”
रुचिका ने सूना तो मुस्कुरा उठी और कहा,”बेस्ट ऑफ़ लक !”

नैना दोनों को बाय बोलकर चली गयी ! निचे आकर उसने घडी में टाइम देखा 6:30 हो रहे थे ! नैना ने इधर उधर नजर दौड़ाई अपनी बाइक पर बैठा शुभ दिख गया ! नैना उसके पास आयी , नैना को अपने पास आता देखकर शुभ जाने लगा तो नैना ने रोकते हुए कहा,”चाबी चाहिए तुम्हारी बाइक की !”
“अब फिर से क्या कांड करने वाली हो तुम ? मैं बता रहा हूँ मैं इन सब में तुम्हारी बिल्कुल हेल्प नहीं करूंगा !”
नैना जिसका दिमाग पहले से गर्म था उसने अपना गाल खुजाया और उलटे हाथ से एक कंटाप रखा शुभ के गाल पर और अपना हाथ आगे करके कहा,”चाबी !बेचारा शुभ जबसे नैना से मिलता था पिटता ही जा रहा था ! उसने रोनी सी सूरत बना ली और अपना हाथ गाल पर लगाए चुपचाप चाबी नैना को दे दी ! नैना जाने लगी तो नजर शुभ की जेब में टंगे चश्मे पर गयी नैना ने उसे निकालकर लगाते हुए कहा,”तेरे किस काम का है ये तेरी तो दोनों आँखे ठीक है !”
“आँखे तो तुम्हारी भी ठीक है !”,शुभ ने लगभग रोते हुए कहा
“ओह्ह काका तेरी सिर्फ आँखे ख़राब है , मैं बंदी ही ख़राब हूँ !”,कहकर नैना बाइक लेकर वहा से चली गयी !
शाम 7 बजे वह रॉयल इन होटल पहुंची सचिन ने जो रूम नंबर बताया था नैना ने उसके सामने जाकर बेल बजा दी ! दरवाजा सचिन ने ही खोला लेकिन नैना को सामने देखकर हक्का बक्का रह गया और कहा,”तू तू तुम यहाँ !”
नैना ने उसे अंदर धकेला और दरवाजा बंद करते हुए कहा,”मुझे देखकर इतना हैरान क्यों हो ? रुचिका की जगह मैं आ गयी इसलिए डरो मत ! मुझे तुम काम के बन्दे लगे रुचिका के जरिये तुमने 5-10 लाख रूपये यू ही कमा लिए सोचो 5 की जगह 50 कमाने को मिले तो कैसा लगेगा ?”
“मतलब ? तुम कहना क्या चाहती हो ?”,सचिन ने कहा
“ओह्ह्ह सचिन तुम इतने भी भोले नहीं हो की मेरी बात ना समझो , बैठो !”,नैना ने थोड़ा अदा के साथ सचिन को बैठने को कहा और खुद बिल्कुल उसके सामने आ बैठी और कहा,”मैं जान गयी हूँ की तुम कितने टेलेंटेड हो , जो काम अब तब तुम अकेले करते आये हो वो मेरे साथ मिलकर करो आधा तुम्हारा आधा मेरा !”
“लेकिन तुम तो रुचिका की दोस्त हो , उसी के खिलाफ जाना चाहती हो !”,सचिन ने नैना की बातो में इंट्रेस्ट दिखाते हुए कहा
“दोस्त और मैं , ड्यूड मैं किसी की दोस्त नहीं पैसे से बढ़कर दोस्ती नहीं होती है वैसे भी उस रुचिका ने मुझे सबके सामने इंस्लट किया था , उसे उसकी औकात दिखाने के लिए मैं कुछ भी करुँगी !”,नैना ने कहा
“आई लाइक यू नैना , मुझे तुम्हारे जैसी लड़किया ही पसंद है जो वक्त के हिसाब से खुद को बदलना जानती है ! तुम बहुत आगे जाओगी !”,सचिन ने ओवेराक्साइटेड होकर कहा !
“तो मैं डील पक्की समझू ?”,नैना ने कहा
“हां , लेकिन आज की रात मैं रुचिका के साथ बिताने वाला था !”,सचिन ने कहा
“ओह्ह सचिन , मेरे होते हुए रुचिका की क्या जरूरत है ?”,नैना ने अपनी ऊँगली सचिन के गाल पर घूमाते हुए कहा तो सचिन पिघल गया और नैना के करीब आकर कहा,”यकीन नहीं होता नैना ये तुम कह रही हो ,, तुम्हारा ये बदला हुआ रूप देखकर सच में हैरान हु मैं !”
नैना ने उसकी आँखों में देखते हुए कहा,”अभी तुमने देखा ही क्या है ? आज की रात तुम्हे जन्नत दिखाने वाली हूँ मैं”
कहते हुए मैना ने सचिन को बेड पर धक्का दे दिया और कहा,”पहले एक एक ड्रिंक हो जाए !”
“स्योर बेबी !”,सचिन ने बेड पर लेटे हुए नैना को देखते हुए कहा !
नैना दो ग्लासों में शराब ले आयी अपने हाथ से सचिन को पिलाई और अपना ग्लास भी उसे थमाकर कहा,”पी लो मेरी तरफ से !”
नैना के ख्वाब में अंधा सचिन वह भी पि गया ! उसके बाद एक के बाद एक नैना ने उसे कई पैग पिलाये ! कुछ देर बाद सचिन ने उसके पास आने की कोशिश करते हुए कहा,”कम ऑन नैना अब सब्र नहीं होता !”
नैना उठकर उस से दूर हुई और कहा,”पहले काम की बात कर ले !”
“ओह्ह नैना कम ऑन रोमांस में कहा काम ला रही हो तुम !”,सचिन ने नशे के उन्माद में कहा
“सचिन रोमांस के लिए पूरी रात पड़ी है और मैं तुमसे कमिटमेंट कर चुकी हूँ लेकिन तुम भी तो भरोसा दिलाओ की तुम मुझे धोखा नहीं दोगे !”,नैना ने मासूमियत से कहा !
“हम्म्म , अच्छा रुको !”,कहकर सचिन उठा उसने सोफे पर रखा अपना बैग उठाया और उसमे रखी पेन ड्राइव निकालकर नैना को दिखाते हुए कहा,”मैं जो काम करता हूँ वो सारा रिकॉर्ड इसमें है , अकाउंट्स में जितनी हेर फेर अब तक मैंने की है , फाइल्स डाटा , कम्पनी की प्राइवेट डिटेल्स सब इसमें है !”
नैना ने उसके हाथ से वो लेने की कोशिश की तो सचिन ने हाथ पीछे करके कहा,”आहा नो नैना ये मैं तुम्हे नहीं दे सकता , कल ऑफिस में मैं तुम्हे सब काम समझा दूंगा ! अभी ये सब भूलकर चलो जन्नत देखते है !”
“तुम्हे ऐसी जन्नत दिखाउंगी बेबी की जिंदगीभर नहीं भूलोगे”,कहते हुए नैना ने अपना हाथ सचिन के कंधे पर रखा और अपना घुटना मोड़कर उसके पेट में दे मारा ! एक तेज आह के साथ वह निचे सोफे पर जा गिरा और उसके हाथ से पेन ड्राइव छूटकर फर्श पर गिर गयी सबसे पहले नैना ने उसे उठाया और अपनी जींस की छोटी पॉकेट में डाल लिया ! उसने सोफे से सचिन को कोलर पकड़कर उठाया और लाकर बेड पर पटक दिया ! उसके कपडे उतार दिए और कपड़ो के नाम पर बस उसे कच्छे में छोड़ा बिस्तर पर पड़ा सचिन दर्द से कराह रहा था और कुछ देर बाद शराब के नशे में वह सो गया ! नैना आकर सोफे पर बैठी पानी की बोतल उठायी और पीकर वापस रख दी ! नैना ने एक नजर सचिन को देखा और फिर उठकर जाने का सोचा ! रुचिका के लिए सबूत उसे मिल ही चुका था ! नैना जैसे ही दरवाजे के पास आयी सचिन का फोन बजने लगा ! नैना वापस पलटी और आकर फोन देखा तो उसकी स्क्रीन पर “LOVE”लिखा दिखाई दे रहा था नैना मुस्कुरायी और कहा,”इतनी भसड़ मचाई है थोड़ी और सही !” कहकर नैना ने कॉल अटेंड की और फोन कान से लगा लिया !”‘
दूसरी तरफ से आवाज आयी,”हैलो सचिन बेबी कहा हो आप ? कबसे आपको फोन कर रही हूँ ? वो पापा हमारी शादी की डेट्स के लिए पूछ रहे थे तुम कल घर आ रहे हो ना ? बोलो ना बेबी तुम चुप क्यों हो ? क्या कर रहे हो बोलो ना ?”
नैना मुस्कुराई और कहा,”जिस नंबर से आप संपर्क करना चाहती है वो अभी मेरे साथ जन्नत देखने में व्यस्त है ,, कृपया थोड़ी देर बाद कॉल करे !”
सचिन के फोन पर किसी लड़की की आवाज सुनकर सामने वाली लड़की हैरान रह गयी साथ ही नैना की बात सुनकर उसे भी गुस्सा आ गया उसने कहा,”ए दिमाग सही है तुम्हारा ? कौन बोल रही हो तुम ? और सचिन कहा है ? फोन दो उसे !”
“वो बात करने की हालत में नहीं है ,, मैं कौन हूँ ये ना जानने में ही तुम्हारी भलाई है !”,नैना ने कहा तो लड़की और ज्यादा भड़क गयी और गुस्से से कहा,”मैं सचिन की फियोंसी बोल रही हूँ कहा है वो ?”
“ओह्ह्ह्ह , तुम्हारा सचिन फ़िलहाल रॉयल इन होटल में रूम नंबर 307 में मेरे साथ आराम फ़रमा रहा है !”,नैना ने कहा
“वही रुको मैं अभी आती हूँ !”,कहकर लड़की ने फोन काट दिया ! नैना के होंठो पर रहस्य्मयी मुस्कान तैर गयी !!!

क्रमश :- love-you-zindagi-29

Previous Part :- love-you-zindagi-27

Follow Me On :- facebook

संजना किरोड़ीवाल !!

40 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!